Japamala:-

आज हम जानेंगे मालाओं के बारे में, हर एक  माला 108 बीजों से बना हुआ होता है, Hindu धर्म के बारे में जरा सी भी जानकारी रखने वाले यह जानते होंगे कि मंत्र उच्चारण और जप करते वक्त हम 108 बीज वाले माला स्त्माल करते है .इस्मे एक extra बीज होता है जो हमे जानने मे मदद करता है कि इस्का starting और ending point क्या है.
Japamala


नीला रंग का गोला आज हमारा आकाश बनेगा यही जोडियक या राशि चक्र के नाम से जाना जाता है जैसे कि हम जानते हैं कि एक गोला 360 डिग्रीस का होता है 360 डिग्रीस को 12 राशियों में डिवाइड करने पर हर Rashi को 30 डिग्री का एंगल मिलता है और इससे यह बनता है 12 राशियां जिन्हें हम इंग्लिश में जोडियक साइन कहते हैं हिंदू कैलेंडर के हिसाब से यह है मेष वृषभ मिथुन कर्क सिंह कन्या तुला वृश्चिक धनु मकर कुंभ मीन


इसी राशि चक्र में समाते हैं हमारे 27 नक्षत्र, नक्षत्रों का नाम है  Ashwini, Bharani, Krittika, Rohini, Mrigshira, Ardra, Punarvashu, Pushya, Ashlesha, Magha, Purva Phalguni, Uttara Phalguni, Hasta, Chittra, Swati, Vishakha, Anuradha, Jyeshtha, Moola, Purva Ashadha, UttaraAshadha, Sravana, Dhanisgta, Shatabhisha, Purva Bhadrapada, Uttara Bhadrapada and Revati चक्र,
27 नक्षत्रों में डिवाइड करने पर हर एक नक्षत्र का डिग्री 13.20 होता है इन नक्षत्रों को आगे जाकर चार चरणों में डिवाइड किया जाता है जिनको पादास कहते हैं तो इन 13.2 को चार से डिवाइड करने पर हर एक पादा 3.20 डिग्री का बनता है


इस पूरी राशि चक्र में कितने पादास होंगी यह जानने के लिए हमारे पास दो तरीके हैं पहला तरीका यह नाइन पादास को 12 राशियों से  मल्टिप्लाई करेंगे दूसरा तरीका 27 नक्षत्रों को 4:00 पादा से मल्टिप्लाई करेंगे दोनों ही तरीकों से एक ही उत्तर मिलता है 108, 108 पदास  का
Geometric image है जब हमने इस चित्र को गॉड पार्टिकल के चित्र से कंपेयर किया तो हमें बहुत सारे similarity दिखी


गॉड पार्टिकल क्या है?
यह God particle साइंटिस्ट का एक हाल ही में हुई खोज का परिणाम है ऐसा बोला गया है कि हमारी सृष्टि का कारण ही गॉड पार्टिकल है एक और आश्चर्यचकित करने वाली चीज यह है कि इस पूरे रिसर्च में न्यूमेरिकल नंबर 9 को बहुत ज्यादा महत्व दिया गया है उदाहरण के तौर पर हमारी सोलर सिस्टम में नाइन प्लैनेट्स है 360 डिग्री 3 प्लस 6 इज इक्वल टू , 108 प्लस 1 प्लस 8 इक्वल टू 9, 27 नक्शतरास 2 प्लस 7 इज इक्वल टू 9 हमारे हिंदू धर्म का श्री यंत्र जो कि इस दुनिया का सबसे बड़ा रहस्य मय puzzle है वह भी 9 त्रिकोणों से ही बना है


इन सभी चीजों से यही मालूम होता है कि जब हम 108 बार मंत्र उच्चारण करते हैं तब हम directly or indirectly  पूरी सृष्टि से प्रार्थना करते हैं नौ ग्रहों से प्रार्थना करते हैं 27 नक्षत्रों से प्रार्थना करते हैं 12 राशियों से प्रार्थना करते हैं और निर्गुण निराकार परब्रह्मा से प्रार्थना करते हैं

Post a Comment

If you have any dought please let me know

Previous Post Next Post
close