मैक मोहन रेखा क्या है ?

McMahon Line


भारत और तिब्बत कि सीमा लगभग साढ़े तीन किलोमीटर है पश्चिम में जम्मू कश्मीर से लेकर मिडिल में उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश तथा पूर्व में अरुणाचल प्रदेश और सिक्किम तक फैली है. वर्तमान समय में तिब्बत पर चीन का अधिकार है. चीन पूर्व में अरुणाचल प्रदेश को दक्षिण तिब्बत का हिस्सा मानता है.१९१४ में भारत और तिब्बत के बीच एक अग्रीमेंट हुआ था जो अरुणाचल प्रदेश के पास तिब्बत और भारत के सीमा को लेकर था जिसे मैक मोहन रेखा कहा जाता है. लेकिन चीन इसे मानाने से इंकार करता हैं इसके सम्बन्ध में वो कहता हैं कि जब ये अग्रीमेंट हुआ था तब भारत ब्रिटिश का गुलाम था और अग्रीमेंट के समय वो उपस्थित नहीं था. १९५० में चाइना ने तिबात पर अपना पूर्ण कब्ज़ा कर लिया था. मैक मोहन रेखा को आज भारत और चीन दोनों ने इसे L.A.C. मान  लिया है. जब १९१४ में भारत और तिब्बत के बीच सीमा शिमला में सीमा रेखा को लेकर समझौता हुआ तब उस समय इस समझौता के मुख्य वार्ताकार सर हेनरी मैक मोहन थे . इन्ही के नाम पर इसे मैक महोन रेखा कहा जाता है.

Post a Comment

If you have any dought please let me know

Previous Post Next Post
close