Don't Drink Water Immediately After Meal
खाना महत्व का नहीं है खाने को पचाना महत्व का क्योंकि भोजन पचेगा तो रस बनेगा उसमें से मांस, मज्जा, रक्त, मल- मूत्र वीय्र ये सब बनेगा, अश्थिया बनेंगी और वही आपके शरीर के लिए आगे जीवन में काम आएंगे
Drinking water after food is good or bad
पहला सूत्र है भोजन के अंत में पानी पीना विष पीने के बराबर है
एक सूत्र में यह कहा है कि हमारा जो शरीर है इसका जो मुख्य स्थान पेट है इसमें एक स्थान होता है पेट के अंदर नाभि, लेफ्ट साइड में नाभि से थोड़ा ऊपर इस स्थान को कहते हैं जठर.
हिंदी में कहते हैं आमाशय अंग्रेजी में चाहे तो ऐ पि गेस्ट रकम इसमें अग्नि प्रदीप्त होती है जठराग्नि, और जो कुछ भी आप भोजन करते हैं वह पहले जठर में हीं जाता (यह है महत्व की बात)
what do drink after meal to help digestion
Example: 
आपने रोटी का पहला टुकड़ा मुंह में डाला और जैसे ही टुकड़े को चबाना शुरु किया, लार बनना शुरू हुआ तुरंत अग्नि प्रदीप्त हो जयेगी ,पहले ही टुकड़े मे .

         
यह अग्नि प्रदीप्त हुई अब आप जो भोजन कर रहे हैं यह इस अग्नि के प्रभाव में पचेगा तो भोजन के पचने की क्रिया में पहले भोजन रस में बदलेगा, पहले पेस्ट बनेगा जैसे टूथपेस्ट की कंडीशन होती है वैसा बनेगा लुगदी जैसा फिर उसमें से रस बनेगा फिर उस्  में से सब कुछ बनेगा. अभी अग्नि भोजन को पचा रही है और आपने भोजन करते ही पानी पी लिया गढ़- गढ़ -गढ़ -गढ़

 अग्नि शांत हो जाएंगे अग्नि का पानी से मेल नहीं है, दुश्मनी है तो आपके पेट में खाना खाते ही अगनि जल रही है तभी आपने  एक गिलास पानी पी लिया कोई-कोई लोग तो लोटा भर के पी लेते हैं,कई लोग तो भोजन से ज्यादा पानी पी लेते हैं, भोजन पचेगा नही वो सड़ेगा ,भोजन अगर सड़ना शुरू हुआ तो सबसे पहले  गैस बनेगी.

यह वायु (गैस) आपकी जिंदगी हराम कर देंगी और यह वायु (गैस)  की तीव्रता जब बढ़ेगी तो गले में जलन होगी , छाती में जलन होगी, पेट में जलन होगी, तो पूरे शरीर में घूमेगी तो सिर घूमेगा आपको चक्कर आएंगे सिर में दर्द होगा पीठ में भी दर्द हो सकता है फिर ह्रिदय स्थान पर भयंकर दर्द हो सकता है कई बार तो इतना दर्द होता है कि आपको लगेगा कि घर का दर्द है,

जो वायु (गैस) बनी भोजन के सड़ने से इसी वायु में से 103 रोग पैदा होंगे ,पहला रोग है उसमें एसिडिटी,  हाइपर एसिडिटी ज्यादा दिन अगर आपने यह चक्कर चलाया पानी पीने का, तो अल्सर, पेप्टिक अल्सर, बवासीर ,मोड़ व्यास भगंदर और अंत का एक रोग है कैंसेर.
 एसिडिटी से शुरू होकर आप कैंसर तक की यात्रा कर सकते हैं

आपका जो भोजन सड़ेगा तभी कोलेस्ट्रॉल बनेगा अगर भोजन का पाचन हुआ तो कोलेस्ट्रॉल zero रहता है आप जानते शरीर में दो तरह का कोलेस्ट्रॉल एक गुड और बैड अच्छा कॉलेस्ट्रोल Means एचडीएल high-density लिपॉप्रोटीन ,खराब कोलेस्ट्रॉल और उसका छोटा भाई वीएलडीए वेरी लो डेंसिटी लिपॉप्रोटीन. ज़िन का कोलेस्ट्रॉल बढ़ रहा है या बढ़ा हुआ है वह ध्यान दें उनको भोजन पच नहीं रहा उनका भोजन सड़ रहा है तो कोलेस्ट्रॉल बढ़ेगा तो हर्ट अटैक भी आएगा कॉलेस्ट्रोल बढ़ेगा तो घुटने भी जड़ हो जाएंगे सारी संध्या एकदम कड़क हो जाएगी आपका चलना फिरना मुश्किल हो जाएगा 10 कदम चलना मुश्किल हो जाएगा तो हम कहते हैं कि जब 103 बीमारियां एक छोटी गलती से आती हो  तो वो कभी करना नही चाहीये.

Post a Comment

If you have any dought please let me know

Previous Post Next Post
close